सुपरस्टार रजनीकांत की जीवनी । South Superstar Rajnikant Biography In Hindi

spotyourstoryFebruary 2, 2018
वो जमीन से जुड़े हुये है वे फिल्मो के बाहर आम आदमी की तरह जीते दिखाई देते है। अगर उनसे कोई मदद मागने आये तो वो उसे कभी खाली हाथ नहीं लौटाते और उन्होंने अपनी सफलता को अपने उपर हावी नहीं होने दिया ।

 सुपरस्टार रजनीकांत की जीवनी । South Superstar Rajnikant Biography In Hindi

आज भी भारत मै किसी भी फिल्म को रिलीज करने के लिये छुट्टियों वाला दिन देखा जाता है । या फिर ऐसे समय पर रिलीज किया जाता है जब कोई फेस्टिवल आने वाला हो ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग थेटर मै आ सके । आज हम ऐसी शक्स से बातचीत करने वाले है जिनकी फिल्म किसी भी दिन रिलीज हो छुट्टी तो अपने आप मिल जाती है उनका नाम है शिवाजीराव गायकवाड उर्फ़ रजनीकांत ( Rajnikant Biography In Hindi ) । रजनीकांत जी को सभी सिर्फ एक्टर के रूप ही नहीं बल्कि भगवान के रूप मै जाना जाता है । और दक्षिण भारत मै रजनीकांत जीके मंदिर भी बनाये गये है और वहाँके लोग उनकी पूजा भी करते है । इस सफलता के पीछे एक संघर्ष भी छुपा है तो चलिए इस संघर्ष को उनसे ही जानते है ।

Latha-Rajinikanth-wife

Rajinikanth  Wife  : Latha

मेरा जन्म 12 दिसम्बर 1950 को कर्नाटक के बंगलोर मै एक मिडल क्लास फॅमिली मै हुआ । मेरे माता पिता ने मेरा नाम राजा छत्रपती शिवाजी महाराज के नाम से रखा था शिवाजीराव गायकवाड । मेरे पिता का नाम रामोजीराव गायकवाड था वो एक पुलिस कांस्टेबल थे और माँ का नाम जिजाबाई था वो हाउसवाइफ थी । हम घर मै चार भाई बहन थे और उनमेसे मै सबसे छोटा । 1956 मै पिताजी के रिटायरमेंट के बाद हमारा पूरा परिवार बंगलोर के हनुमंत नगर मै रहने चले गये वहाँ हमारा खुद का घर था ।

6 साल के उम्र मै मेरा एडमिशन गविपुरम गवरमेंट कन्नड़ मॉडल प्राइमरी स्कुल मै किया वहासे मैंने मेरी शुरुवाती पढाई की, वैसे मै पढाई अच्छा था और खेलकूद भी मुझे अच्छा लगता था । मेरे घरमे सब मराठी मै बातें करते तो मराठी मुझे अच्छी आती थी और बंगलोर की लोकल लैंग्वेज़ कन्नड़ भी सिखली । जब मै 9 साल का था तब मेरी माँ की मृत्यु हो गई । उसके बाद मेरे भाई ने मुझे रामकृष्ण मिशन के अंतर्गत चलाये गये मठ मै मुझे पढने भेजा । वहापर पढाई के साथ साथ भारतीय संस्कृती और वेदों की भी पढाई की । वहाँ पर मैंने नाटको मै भी भाग लिया ।

Soundarya-Rajinikanth-doughter

Rajinikanth  doughter : Soundary

एकबार मैंने महाभारत मै एकलव्य के दोस्त का रोल किया | मेरे उस एक्टिंग को लोगों ने बहुत पसंद किया साथ साथ ही मशहूर कवी डी.आर.बेंद्रे उस नाटक को देखने आये थे वो पर्सनली मुझसे मिले और मेरी बहुत तारीफ की और इससे एक्टिंग मै मेरा इंटरेस्ट और बढ़ा । छटवी क्लास के बाद मेरा एडमिशन आचार्य पब्लिक पाठशाला नाम के एक स्कूल मै कराया गया | वहाँ मैंने आगे की पढाई की और बहुत सारे नाटको मै भाग लिया । उस वजह से थेटर मै शौक बढ़ा और एक्टिंग मै करियर करने का सोच लिया ।

लेकिन स्कुल के बाद मेरे घर की परिस्तिती खराब होने लगी इस वजह मैंने बंगलोर और मद्रास मै छोटे छोटे काम किये है जैसे की कारपेन्टर और कुली का काम किया है । उसी समय बंगलौर मै बस कंडक्टर की जगह निकली थी और उसमे मैंने क्वालीफाई किया और वह नोकरी करने लगा । जिससे मेरे परिवार की आर्थिक परिस्तिती अच्छी होने लगी । मै थेटर के दुनिया से अलग होने लगा लेकिन एक्टिंग नहीं छोड़ी ।

बस मै टिकेट काटते समय अलग अलग तरह की एक्टिंग करने मै और सिटी मारने मै पैसेंजर मै फेमस था । उसी बीच एक दिन मैंने मद्रास फिल्म इंस्टिट्यूट का विज्ञापन पेपर मै देखा जो फिल्मो मै एक्टिंग के लिए कोर्स करवाती थी । मैंने अपने घरवालों से एक्टिंग के लिए कहाँ तो घरवालो ने पैसे की वजह से मना कर दिया । मेरे एक दोस्त, राजबहादुर ने मेरी एक्टिंग करने के पागलपन को देखा था इसलिए मद्रास इंस्टिट्यूट मै एडमिशन के लिये उसने मेरी मदत की ।

Rajinikanth-film-Kochadaiiyaan

1973 मै मैंने कंडक्टर की जॉब छोड़ दी और एक्टिंग सीखने लगा और पैसो के लिए जगह जगह जाकर एक्टिंग करने लगा । एक बार इंस्टिट्यूट मै एक नाटक करते समय फेमस डायरेक्टर के. बालाचंदर की नजर मुझपर पड़ी और उन्हें मेरी एक्टिंग इतनी पसंद आयी की एक तामिल फिल्म के लिए मुझे साइन कर लिया और साथ ही साथ तामिल भाषा सीखने का सुझाव दिया । उनके कहने पर मैंने तामिल भाषा भी सिख ली ।

क्रिकेटर मिथाली राज  की जीवनी । Mithali Raj Cricketer Biography in Hindi

1975 मै मैंने ‘अपूर्वा रागांगल’ तामिल मूवी से फिल्म करियर की शुरुवात की | उसमे मेरा विलन का रोल था वैसे रोल कोई खास नहीं था लेकिन लोग मेरे एक्टिंग को पहचानने लगे और अपनी एक्टिंग की बदौलत तामिल फिल्म का सुपरस्टार बन गया ।

उसी बीच मेरी मुलाकात लता रंगाचारी से हुई जों उनके कॉलेज के मैगजिन्स के लिए मेरा इंटरव्यू लेने आई थी लेकिन उनको देखते ही वो मुझे पसंद आई । 26 फरवरी 1981 को तिरुपति के आंध्रप्रदेश मै हमने शादी कर ली । मुझे दों बेटियां है एक का नाम ऐश्वर्या रजनीकांत है और छोटी बेटी का नाम सौदर्या रजनीकांत है । ऐश्वर्या की शादी जानेमाने एक्टर धनुष से हुई और छोटी बेटी तामिल फिल्मो के डायरेक्टर और प्रोडूसर के तौर पर काम करती है । तामिल फिल्म मै काम करने के बाद मैंने हिंदी फिल्म भी करने लगा और मैंने अपनी पहली हिंदी फिल्म अमिताभ बच्चन के साथ की जिसका नाम अंधा कानून था ।

स्टैंड अप कॉमेडियन भारती सिंघ की जीवनी । Bharti Singh Biography in Hindi

रजनीकांत बारे मैं दोस्तों एक बात बताना चाहता हूँ की, वो जमीन से जुड़े हुये है वे फिल्मो के बाहर आम आदमी की तरह जीते दिखाई देते है। अगर उनसे कोई मदद मागने आये तो वो उसे कभी खाली हाथ नहीं लौटाते और उन्होंने अपनी सफलता को अपने उपर हावी नहीं होने दिया ।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article,Story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail (spotyourstory@gmail.com) करें.
यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो तो इसे जरुर शेयर करे अपने दोस्तों के साथ और निचे कमेंट करे.


हमारी स्टोरी

इस ब्लॉग का मिशन है की ऐसी स्टोरीज लोगो तक पहुचाई जाये जिससे लोग पढ़कर प्रेरित हो और उनके जीवन में लक्ष्य प्राप्त करनेका हौसला और बुलंद हो |

इस ब्लॉग मै सफल बिसनेस स्टोरीज, सोशल स्टोरीज, और कई प्रेरणादायी व्यक्तियों जीवन संघर्ष के बारे मै आपको पढ़नेको मिलेगी |

अगर आपके पास भी कोई ऐसी स्टोरी है जो आपको लगता है की ये समाज मै एक अलग अपनी छाव छोड़ सकती है तो आप हमारे साथ जरुर शेयर करे  ताकि हम उस स्टोरी को और लोगो तक पंहुचा
सकें जिससे और लोगो को लाभ हो |
Write Your story to –  spotyourstory@gmail.com


संपर्क करे

कॉल करे



Subscribe करे ब्लॉग को


Categories